शुक्रवार, 15 मई 2020

संस्कृत के मंत्रों और स्तोत्र का पाठ और स्मरण (Speaking and Memorizing of Lord Shiv Mantras and Stotras)

       संस्कृत के मंत्रों और स्तोत्र का पाठ और स्मरण
(Speaking and Memorizing of Lord Shiv Mantras and Stotras)


 भगवान शिव से संबंधित संस्कृत के मंत्रों और स्तोत्र का पाठ और स्मरण तो सभी करना चाहते हैं प्रंतु इन की भाषा पढ़ने और समझने में कठिन होती है इसलिए ज़्यादातर लोग कोशिश ही नहीं करते या अगर कोशिश करते तो हैं तो बीच में ही छोड़ देते है| इस ब्लॉग में इन मंत्रों और स्तोत्र को पढ़ने और याद करने का आसान तरीका समझाया गया है जिस से कोई भी इन को आसानी से पढ़ और याद कर सकेगा| इन मंत्रों और स्तोत्र को जहाँ याद करना ज़रूरी है इनका अर्थ समझना भी उतना ही ज़रूरी है, इसलिए इस ब्लॉग में इन का भाव भी स्पष्‍ट किया गया है| हमें आशा है की आप को भी यह पसंद आएगा और स्तोत्र में कुछ मूलभूत अंतर होता है|
1) मंत्र संक्षिप्त होते हैं, मंत्र जप की तीन विधियाँ हैं:- (क) वाचिक जप (ख) उपांशु जप (ग) मानसिक जप| इन तीनों में मानसिक्त जप की अत्याधिक महिमा है| जप को जितना मानसिक किया जाए उतना ही अच्छा|
2) स्तोत्र  का जप वाचिक होना चाहिए ना की मानसिक| स्तोत्र यदि याद ना हो तो पढ़ कर पाठ करें|

        भगवान शिव  के मंत्रों और स्तोत्र का विवरण नीचे दिया हुआ है| इन मंत्रों के लिंक पर क्लिक कर के इन मंत्रों के उच्चारण द्वारा इन मंत्रो और स्तोत्र को याद कर सकते हैं|

01. श्री शिवप्रात:स्मरणस्तोत्रम्
02. शिव तांडव स्तोत्र
03. शिव महिमा स्तोत्र
04. शिव मानस पूजा
05. शिव ध्यान मंत्र
06. श्री रुद्राष्टकम् स्तोत्र (गोस्वामी तुलसीदास)
07. शिव स्तुति
08. महामृत्युंजय मंत्र
09. शिव पञ्चाक्षर स्तोत्रम्
12. द्वादश ज्योतिर्लिंग स्तोत्र
13. रुद्री पाठ
14. लघु रुद्र पाठ
15. शम्भु स्तुति
16. शिव षडक्षर स्तोत्रम्
17. श्रीविश्वनाथाष्टकम्
18. शिव गायत्री मन्त्रः
19. शिव अपराध क्षमापन स्तोत्र
20. दक्षिणामूर्ति स्तोत्रम्
21. दारिद्रय दहन स्तोत्र
22. रुद्र सूक्त
23. श्री शिव अष्टोत्तर शतनामावली
24. चन्द्रशेखर अष्टक  स्तोत्र
25. कालभैरवाष्टकम्
26. लिङ्गाष्टकम्
27. शिव चालीसा
28. श्री शिव सहस्रनाम  स्तोत्रम्

जय भोलेनाथ!!!

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें